Home health shilajit क्या है शिलाजीत के फायदे shilajit ke fayde

shilajit क्या है शिलाजीत के फायदे shilajit ke fayde

69
0
SHARE

शिलाजीत के फायदे Shilajit ke fayde

अक्सर आप लोग अपने आप को स्वस्थ और निरोगी रखने के लिए तरह-तरह के सप्लीमेंट जैसे कि, मल्टीविटामिन, ओमेगा 3, बी कॉन्प्लेक्स, विटामिन c, कैल्शियम वजन कम करने के लिए ग्रीन टी तरह-तरह के टॉनिक और प्रोटीन पाउडर का सेवन करते हैं । वैसे इसमें कोई बुराई नहीं है, लेकिन कैसा हो अगर हेल्थ से जुड़ी सारी चीजों दवाइयों को छोड़कर रोजाना सिर्फ एक चुटकी भर के सेवन से है हमारी सेहत संबंधी सभी समस्याओं का निदान हो जाए । 

शिलाजीत के फायदे,shilajit ke fayde,benefits of shilajit in hindi,benefits of shilajt,shilajit benefits,shilajit ke fayde in hindi,shilajit khane ke fayde hindi,shilajit ke kya kya fayde hai,shilajit me kya hota hai,शिलाजीत में क्या होता है,shilajit kitna surkshit hai,शिलाजीत हमारे लिए कितना सुरक्षित है,शिलाजीत,Shilajit ki jankari,shilajit ki jankari in hindi,shilajit ke fayde hindi,shilajit ke fayde hindi me,shilajit k labh,shilajit ke labh,shilajit capsuls,shilajit,liquid,शिलाजीत के फायदे, आयुर्वेदिक गुण व नुकसान,शिलाजीत का सेवन कैसे करें,shilajit ka sevan kaise kare,shilajit ka sevan kaise kare hindi me,शिलाजीत क्या है,shilajit kaise banate hai,patanjali shilajit ke fayde,divya shilajit ke fayde,shilajit patanjali,shilajit kaise khana chahiye,पतंजलि शुद्ध शिलाजीत औषधी, Health Benefits of Shilajeet in Hindi,
shilajit क्या है शिलाजीत के फायदे  shilajit ke fayde

शिलाजीत shilajit प्रकृति का दिया हुआ वह उपहार है जिसका इस्तेमाल भारत में प्राचीन काल में अलग-अलग बीमारियों को ठीक करने तथा शरीर और मानसिक शक्ति को बढ़ाने के लिए किया जाता आ रहा है ।


लेकिन आज शिलाजीत shilajit का नाम सुनतेही ज्यादातर लोगों के दिमाग में ताकत बढ़ाने में पुरुषों की कमजोरी दूर करने वाली कोई जड़ी बूटी का ख्याल आता है।और अगर आप भी ऐसा सोचते हैं, तो आप इसकी चमत्कारी शक्तियोंको अंडरस्टीमेट करने की गलती कर रहे 



शिलाजीत आयुर्वेद की एक ऐसी प्राकृतिक औषधि है जिससे उन बीमारियों को भी पूरी तरह ठीक किया जा सकता है, जिनका आज मेडिक सायन्स में भी कोई इलाज नहीं है । वजन बढ़ाने से लेकर वजन घटाने तक शरीर में सभी अंदरूनी अंगों से जुड़ी बीमारियों और कमजोरियों को दूर करने के लिए शिलाजीत बहुत उपयोगी है और इसके पहले ही इस्तेमाल से शरीर पर इसका असर होना शुरू हो जाता है । यह एक मल्टीपरपज मेडिसिन की तरह काम करता है । क्योंकि शिलाजीत shilajit के अंदर पित्त जैसी अलग धरा के एक्टिव न्यू ट्रेंड पाए जाते हैं ।


जिसकी बदौलत सभी तरह के हेल्थ सप्लीमेंट को एकमात्र शिलाजीत से रिप्लेस किया जा सकता है । इसका इस्तेमाल छोटे बच्चों से लेकर माहीलाये और यहां तक कि बूढ़े लोग भी कर सकते हैं ।

आखिर वह क्या चीज है जो शिलाजीत shilajit को इतना ताकतवर और शरीर पर सबसे तेजी से असर दिखाने वाली औषधी सभी बनाता है ।

दरअसल shilajit के अंदर फुलविक एसिड की मात्रा सबसे ज्यादा पाई जाती है । और यही वो न्यूट्रिएंट्स है जिसकी वजह से शिलाजीत इतना पावरफुल बनता है। ,क्योंकि फुलविक एसिड हमारे शरीर के सेल्यूलर मेंब्रेन  के द्वारा आसानी से गुजर जाता है, जिसकी वजह से हमारी बॉडी पर इसका किसी भी दूसरी औषधि के मुकाबले काफी जल्दी रिजल्ट नज़र आता है ।

कुछ ही दोनों के इस्तेमाल के बाद इसकी हमारी त्वचा बाल, पाचन, शरीर की एनर्जी और दिमाग पर असर दिखना शुरू हो जाता है । सोरायसिस  एग्जिमा  दाद और गंजेपन को तेजी से रोकने के लिए यह बहुत सरदार है,आप अभी इस वक्त अपनी जिंदगी में सेहत से जुड़ी किसी भी तरह की बीमारी से परेशान हो लंबे समय से मोटापा तथा कमजोरी तथा तनाव के चलते आपका दिमाग पढ़ाई, काम में नहीं लगता हो, दिनभर आलस आता रहता हो, तो ऐसी स्थिति में शिलाजीत shilajit का सेवन आपको जल्द से जल्द शुरू कर देना चाहिए।

अलग अलग उम्र के लोगों को शिलाजीत का किस सेवन करना चाहिए ? इसे कितनी मात्रा में और किस किस समय खाना चाहिए ? अलग-अलग बीमारियों तथा पुरुषों और महिलाओं की सेहत से जुड़ी किन किन समस्याओं को शिलाजीत की मदत पूरी तरह ठीक किया जा सकता है ? 

शिलाजीत कैसे बनाया जाता है ? 

इसमें क्या-क्या होता है ?
इसका सेवन हमारे लिए कितना सुरक्षित है ?


शिलाजीत shilajit को पर्वतों का पसीना भी कहा जाता है । जिसस तरह पेड़ से हमें गोंद प्राप्त होता है, उसी तरह शिलाजीत पहाड़ों से निकलने वाला एक गोंदिया टार है।इसके अंदर पहाड़ों की चट्टानों और पेड़ पौधों में पाए जाने वाले प्राकृतिक खनिज लवण पाए जाते हैं । 

यह खासकर तिब्बत और हिमालय की चट्टानों में ज्यादा मात्रा में पाया जाता है। चट्टानों से प्राकृतिक शिलाजीत को निकालने के बाद इसकी सारी गंदगी को फिल्टर करके निकाल दिया जाता है और फिर इसे इसी तरह कच्चा या फिर कुछ और जड़ी बूटियों के साथ मिला कर पैक कर के बाजार में बेचा जाता है ।

हिमालय की ऊंचाइयों पर मौजूद पर्वतों से निकलने वाला शिलाजीत shilajit ही सबसे असरदार माना जाता है । आयुर्वेद के हिसाब से हमारे शरीर में सात अलग-अलग तरह के रक्त, रस, मांस, अस्थि, मेड, मज्जा और शुक्र धातु पाए जाते हैं । शिलाजीत एक मात्र ऐसी चीज है जिनका सभी तरह के धातुओं पर तेजि से असर होता है, आइए अब जानते हैं  शिलाजीत से जुड़े कुछ अद्भुत फायदे के बारे में और इसका इस्तेमाल का सही तरीका । muscle building वर्कआउट प्लान


शिलाजीत के प्रकार 

बाजार में शिलाजीत shilajit अलग-अलग रूप में मिलता है, लिक्विड liquid, सॉलि़ड solid और कैप्सूल capsuls । कैप्सूल का इस्तेमाल ना करें क्योंकि इसमें यह सूखे पाउडर के रूप में होता है, और साथ में इसमे मिलावट होने की संभावना भी ज्यादा होती है। कोशिश करें कि हमेशा गाढा लिक्विड फॉर्म में मिलने वाले शिलाजीत का ही इस्तेमाल करें । 

एक वयस्क व्यक्ति एक बार में 150 से 250 मिलीग्राम शिलाजीत का सेवन कर सकता है, और इसे 1 दिन में करीबन 6 से ज्यादा नहीं लेना चाहिए ।

लिक्विड का सेवन करने के लिए 1 चम्मच के उल्टे हिस्से को लगभग आधा इंच गहराई तक शिलाजीत के लिक्विड में डूबा कर बाहर निकाल ले, जितना शिलाजीत shilajit चम्मच पर चिपक जाएगा उतना एक बार के इस्तेमाल के लिए काफि होता है । इसे गुनगुने पानी या दूध के साथ मिलाकर किया जा सकता है ।


सॉलिड शिलाजीत का सेवन करने के लिए इसका चाकू या चम्मच की सहायता से थोड़ा सा हिस्सा काट कर चावल के दाने से थोड़े बड़े आकार की गोली बना ले । शिलाजीत को फ्रीज में ना रखें, क्योंकि फ्रिज में यह जमके सख्त हो जाता है, और फिर इसका इस्तेमाल करना मुश्किल बन जाता है, शिलाजीत के इस तैयार गोली का पानी तथा दूध के साथ निगल कर भी सेवन किया जा सकता है, या फिर दूध या पानी में घोलकर भी पिया जा सकता है । 

सख्त होने के बावजूद भी यह गर्म पानी में आसानी से घुल जाता है इसका सेवन दिन में सुबह के नाश्ते से आधे घंटे पहले करना सबसे बेहतर माना जाता है, क्योंकि खाने के बाद भोजन के साथ मिल जाने पर इसका असर कम हो जाता है, इसलिए हमेशा खाने से पहले इसका सेवन कर ले ।

18 से कम उम्र के बच्चों के लिए बताई गई शिलाजीत shilajit की मात्रा को आधी कर दे ।शिलाजीत का सेवन हमेशा साफ़ या उबले हुए पानी में ही करना चाहिए, और साथ ही अगर आप शराब पीते हैं तो शराब पीने के 3 घंटे पहले और 3 घंटे बाद शिलाजीत का सेवन ना करें । पेट की चर्बी कम करे 


शिलाजीत सेवन किन्हें नहीं करना चाहिए :

प्रेग्नेंट महिलाओं को शिलाजीत shilajit का सेवन नहीं करना चाहिए । और साथ ही 12 साल से कम उम्र के बच्चों को शिलाजीत नहीं देना चाहिए । जिन लोगों के शरीर में आयरन की मात्रा बढ़ी हुई है उन्हें शिलाजीत नहीं लेना चाहिए और साथ ही गंभीर दिल के मरीज हाई ब्लड प्रेशर के रोगियों को शिलाजीत लेने की सलाह नहीं दी जाती है ।



अगर आप इस वक्त किसी तरह के इनफेक्शन या बुखार से गुजर रहे हैं, तो ठीक हो जाने तक शिलाजीत का सेवन ना करें और अगर डॉक्टर ने आपको किसी तरह के हार्मोन बढ़ाने या हटाने की दवाई दी है तो दवाई लेने के 3 घंटे तक शिलाजीत का सेवन ना करें ।

शिलाजीत की तासीर गर्म होती है, इसलिए इसका ज्यादातर ठंड में इस्तेमाल करना चाहिए । गर्मियों के मौसम में इसे 1 दिन छोड़कर यह हफ्ते में तीन बार ही इस्तेमाल करें । 

शिलाजीत एक पावरफुल औषधि है इसलिए इसका लगातार 3 महीने से ज्यादा इस्तेमाल ना करें, 3 महिने के बाद 1 महीने का ब्रेक लेकर इसका दोबारा इस्तेमाल जारी किया जा सकता है, यह आपको किसी भी आयुर्वेदिक स्टोरी या फिर पंजारी के पास आसानी से मिल जाएगा और अगर आप चाहे तो इसे ऑनलाइन भी खरीद सकते है । शिलाजीत shilajit का असर शरीर पर पहले दिन से ही होना शुरू हो जाता है ।


शिलाजीत के सेवन के फायदे :


शिलाजीत shilajit हमारी हड्डियों को मजबूत बनाता है, इसमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, निकल और प्रोटीन पाया जाता है । जो की हड्डियों की कमजोरी को दूर करके अर्थराइटिस, औस्तोय प्रोटिस जैसी बीमारियों में राहत प्रदान करता है ।


शिलाजीत का सेवन करने से हमारे शरीर की जख्मों को भरने की क्षमता बढ़ती है, इसमें मौजूद विटामिन बी, कॉपर और फूलवीक एसीड हमारी इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाती है। जिससे बीमारियां और बुखार जैसी चीजें हमारे शरीर में आम लोगों के मुकाबले ज्यादा जल्दी ठीक होने लगती है ।

शिलाजीत हमारे शरीर के लिए एक नेचुरल एनर्जाइजर है, अपने स्टैमिना को बढ़ाने के लिए मिलिट्री, ओलंपिक ओर से जुड़े लोग भी इसका इस्तेमाल करते हैं ।इसे वर्कआउट से पहले स्ट्रेंग्थ के लिए और वर्कआउट के बाद रिकवरी के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है ।

जिन लोगों को दिनभर आलस्य या फिर थकान महसूस होती रहती है, उन्हें रोजाना सुबह के समय इसका सेवन जरूर करना चाहिए ।


शिलाजीत shilajit के अंदर आयरन की मात्रा अधिक होती है, जो कि शरीर की नसों में ऑक्सीजन के संचार को गति प्रदान करती है, नसो में आई कमजोरी कोलेस्ट्रॉल या ब्लॉकेज को ठीक करने के लिए यह बहुत फायदेमंद है ।

शिलाजीत का असर शरीर के एंड्रोजन और टेस्टोस्टरॉन जैसे सभी तरह के सेक्सुअल हारमोंस पर होता है । शीघ्र पतन, नपुंसकता, शुक्राणुओं की कमी तथा महिला और पुरुषों के शरीर से जुड़ी हर तरह की सेक्सुअल कमजोरी इसके इस्तेमाल से पूरी तरह ठीक हो जाती है । 

यह एक पावरफुल एंटीऑक्सीडेंट है जो त्वचा की फ्री-रेडिकल्स डैमेज को कम करके झुर्रियों को दूर करता है । इसके इस्तेमाल से त्वचा की रंगत धीरे धीरे निखरती जाती है,और साथ ही चेहरा लंबे समय तक जवान बना रहता है ।

शिलाजीत में पाए जाने वाला मैग्निशियम खून में ग्लूकोज के लेवल को कंट्रोल करता है । ताकि टाइप-टू-डायबिटीज के मरीज का सेवन अपनी शुगर को कंट्रोल में रखने के लिए कर सकते हैं । शिलाजीत shilajit हमे दिमागी स्थिरता प्रदान करता है ।


काम में मन न लगना दिमाग में फिजूल के  ख्याल चलना या कंसंट्रेशन में कमी आने जैसे की प्रॉब्लम इसके इस्तेमाल से पूरी तरह दूर हो जाती है । इसके सेवन से हमारी सोचने और समझने की शक्ति बढ़ती है, और साथ ही चीजों को याद रखने की क्षमता का भी विकास होता है ।

महिलाओं में पीरियड से जुड़ी प्रॉब्लम जैसे कि कम या ज्यादा ब्लीडिंग होना, पेट में ऐंठन या दर्द होना और अनियमित मासिक धर्म जैसी समस्याएं शिलाजीत के इस्तेमाल से खत्म हो जाती है । जीन महिलाओं को इनफर्टिलिटी यानी के बांज-पन सेक्शुल कमजोरी जैसी की शिकायत है, उन्हें इसका सेवन जरूर करना चाहिए ।

स्टडी से पता चला है कि, शिलाजीत shilajit के स्ट्रेस, डिप्रेसशन और एंजाइटी में भी बहुत फायदेमंद होता है ।

जो लोग अधिकतर उदास रहते हैं दिमाग में हमेशा टेंशन, स्वभाव में चिड़चिड़ापन और हमेशा चिंताओं से घिरे रहते हैं, ऐसे लोगों को दिमागी रूप शांति प्रदान करने के लिए यह बहुत लाभकारी है । 

तो दोस्तों यह भी शिलाजीत से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी अगर आपको यह ”शिलाजीत क्या है इसके फायदे । shilajit ke fayde” आर्टिकल अच्छा लगा हो तो कमेंट में जरूर बताएं और अगर आपका इसके बारे में कोई भी सवाल हो तो जरूर हमें कमेंट करके बताएं | 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here